6/15/2014 12:40:00 pm
0


·

Kumbhalgarh is situated between Lat. 25º 09' N; Long. 73º 36' E.

·    It is in the Kelwada village of Kelwada tehsil of district Rajsamand.

·   It is at a distance of about 80 km northwest of Udaipur amidst the Aravalli hills.

·   Due to its strategic location, it is considered as the second most important fort of Rajasthan.

·  It was constructed by Rana Kumbha of Mewar state of Rajasthan between AD 1443 and 1458.

· Its architect was famous architect 'Mandan'.

·   It is believed that this fort was built on the site of an older palace of a Jaina prince 'Samprati' of the second century BC.

·  Mewar's rular Rana Fateh Singh (1885-1930 AD), one of the greatest builders of his time, built Badal Mahal inside this fort.

·  The important  architectures within the fort are Badal Mahal, Kumbha Mahal, Hindu and Jain Temples, water reservoirs, bawris, cenetophs etc. 

 

 

·    कुम्‍भलगढ़ 25° 09' उत्तरी अक्षांश तथा  73° 36' पूर्वी देशांतर के मध्य स्‍थित है।

·   यह राजसमंद जिले की केलवाड़ा तहसील में केलवाड़ा ग्राम के निकट स्‍थित है।

·   यह उदयपुर के उत्‍तर-पश्‍चिम में लगभग 80 कि.मी. दूर अरावली पहाड़ियों के बीच स्‍थित है।

·  सामरिक महत्‍व के कारण इसे राजस्‍थान के दूसरे महत्‍वपूर्ण किले का स्‍थान दिया जाता है।

·    इसका निर्माण राजस्थान की मेवाड़ रियासत के गौरवशाली शासक राणा कुम्‍भा ने 1443 से 1458 के मध्य करवाया था

·     इसके वास्‍तुकार प्रसिद्ध वास्‍तुकार 'मंडन' थे

·    ऐसा माना जाता है कि इस किले का निर्माण ईसा पूर्व दूसरी शताब्‍दी के जैन राजकुमार 'सम्‍प्रति' के प्राचीन महल के स्थान पर करवाया गया था। 

·  अपने समय के प्रसिद्ध भवन निर्माणकर्ता, मेवाड़ के शासक राणा फतेह सिंह (1885-1930 ई.) ने इस किले के अन्दर बादल महल का निर्माण करवाया।

·  किले के अन्दर महत्‍वपूर्ण स्थापत्यों में बादल महल, कुंभा महल, हिन्दू तथा जैन मंदिर, जलाशय, बावड़ियां, छतरियां आदि हैं।

The following are the brief account of important monuments inside the fort:

 

किले के भीतर महत्‍वपूर्ण स्‍मारकों का संक्षिप्‍त विवरण इस प्रकार है:

Gateways-

·         The fort can be entered from the south through a gate known as Aret Pol, followed by this  gateway there are Halla Pol, Hanuman Pol, Ram Pol and Vijay Pol  gateways.

·         The Hanuman Pol is significant as it enshrines an image of Hanuman which was brought by Rana Kumbha from Mandavpur.

·         The  magnificent complex at the top of the fort is approached  further through three gateways viz., the Bhairon Pol, the Nimboo Pol and the Paghra Pol.

·         Another gateway  Danibatta, situated on the east, connects Mewar region with Marwar. 

 

 

प्रवेश द्वार-

·         किले में प्रवेश दक्षिण दिशा से अरेट पोल नामक द्वार से होता है जिसके बाद हल्‍ला पोल, हनुमान पोल, राम पोल तथा विजय पोल नामक दरवाजे हैं।

·         हनुमान पोल में हनुमान जी की एक प्रतिमा है जिसे राणा कुम्‍भा मांडवपुर से लाए थे।

·         किले के शिखर के भव्‍य परिसर में तीन द्वारों यथा भैरों पोल, नीम्‍बू पोल तथा पाघड़ा पोल से गुजर कर प्रवेश किया जाता है।

·         पूर्व में एक अन्य द्वार है जिसे दानीबट्टा के नाम से जाना जाता है। यह द्वार मेवाड़ क्षेत्र को मारवाड़ से जोड़ता है।

Ganesh Temple-

·         The Ganesh temple, located along the road leading to the palaces, was constructed during the time of Maharana Kumbha.

·         According to one of the inscriptions of Kirti-stambha of Chittorgarh fort, Rana Kumbha consecrated an image of Ganesha in this temple. 

 

 

गणेश मंदिर-

·         महलों की ओर जाने वाले मार्ग पर स्‍थित गणेश मंदिर का निर्माण महाराणा कुम्‍भा के समय में करवाया गया था।

·         चित्‍तौड़गढ़ किले के कीर्तिस्‍तंभ के एक शिलालेख के अनुसार राणा कुम्‍भा ने इस मंदिर में गणेश की मूर्ति प्रतिष्‍ठित करवाई थी।

Vedi Temple-

·         The Vedi temple was built by Rana Kumbha in AD 1457 for performing rituals after completion of the fort.

·         This  double story building was  erected on a high platform.

·         The temple faces west. It is octagonal with thirty-six pillars supporting the domical ceiling.

·         A triple shrined temple dedicated to goddesses is located to the east of this temple. 

 

वेदी मंदिर-

·         राणा कुम्‍भा द्वारा  वर्ष 1457 में किले के पूर्ण हो जाने के पश्‍चात् धार्मिक अनुष्‍ठान करवाने के लिए वेदी मंदिर का निर्माण करवाया था।

·         यह दो मंजिला  भवन एक ऊंचे चबूतरे पर स्‍थापित किया गया है।

·         यह मंदिर पश्‍चिमोन्‍मुखी है। यह अष्‍टभुजाकार है जिसके 36 स्तंभ गुम्‍बदनुमा छत को सहारा देते हैं।

·         देवियों को समर्पित एक मंदिर इस मंदिर के पूर्व में स्‍थित है।

 

Neelkanth Mahadev Temple-

·         The Neelkanth Mahadev temple, situated to the east of Vedi shrine, was built in AD 1458 and enshrines a Siva Ling in the sanctum.

·         This temple is built on raised platform accessible from west through a flight of steps.

·         The temple consists of a sanctum and an open pillared  canopy (mandapa) all around.

·         The shrine can be viewed from all sides  with entrance from all the four directions.

·         A stone inscription on the left pillar of the western gate mentions about its renovations by Rana Sanga.

 

 

नीलकंठ महादेव मंदिर-

·         वेदी मंदिर के पूर्व में स्‍थित यह मंदिर 1458 में बनवाया गया था तथा इसके गर्भगृह में एक शिवलिंग है।

·         यह मंदिर एक ऊंचे उठे हुए चबूतरे पर निर्मित है जहां पश्‍चिम से सीढ़ियों द्वारा पहुंचा जा सकता है।

·         मंदिर में एक गर्भगृह तथा चारों ओर स्तंभों वाला एक खुला मंडप है।

·         गर्भगृह सर्वतोभद्र है जिसमें चारों दिशाओं से प्रवेश किया जा सकता है।

·         पश्‍चिमी द्वार के बाएं स्तंभ पर प्रस्‍तर उत्‍कीर्ण शिलालेख में राणा सांगा द्वारा इसका जीर्णोद्धार कराये जाने का उल्‍लेख किया गया है।

Parsvanatha Temple-

·         This temple was constructed by Nar Singh Pokhad in Vikrama Samvat 1508 (AD 1451).

·         It consists a 3 feet high statue of Jain Tirthankara Parsvanatha

 

पार्श्वनाथ मंदिर-

·         यह मंदिर नाहरसिंह द्वारा विक्रम संवत 1508 (1451 ई.) में बनवाया गया था

·         इसमें जैन तीर्थंकर पार्श्वनाथ की 3 फीट ऊँची प्रतिमा स्थित है।

 

Bawan Devi Temple-

·         This is a famous Jain temple, which derives its name from the fifty-two (bawan) shrines in a single compound built around the main shrine.

·         The bigger shrine among the  temple-group consists of a sanctum, a gap and an open  pavilion (mandapa).

·         An image of Jaina Tirthankara is carved on the lalata-bimba of the doorway.

·         The smaller shrines are devoid of any idols.

 

 

बावन देवी मंदिर-

·         यह एक प्रसिद्ध जैनमंदिर है जिसका यह नाम मुख्‍य मंदिर के आसपास एक ही अहाते में निर्मित बावन मंदिरों के कारण पड़ा है।

·         इस मंदिर-समूह के बड़े मंदिर में एक देव मंदिर, अन्‍तराल तथा एक खुला मंडप है।

·         मुख्य द्वार के ललाट-बिम्‍ब पर जैन तीर्थंकर की एक मूर्ति उत्कीर्ण है।

·         इस मंदिर समूह के छोटे मंदिरों में कोई मूर्ति नहीं है।

Golerao Group of Temples-

·         The Golerao group of temples is situated adjacent to Bawan Devi Temple and bears of nine shrines  confined by a circular wall.

·         On its exterior the shrines are adorned with beautiful carved sculptures of gods-goddesses.

·         On the basis of architectural style, the  temples-group may be ascribed to the period of Rana Kumbha.

·         A sculpture  consists an inscription dated V. S. 1516 (AD 1459) which states about one Govinda.

 

 

गोलेराव मंदिर-समूह-  

·         गोलेराव मंदिर-समूह, बावन देवी मंदिर से लगा हुआ है तथा इसमें नौ देव-मंदिर हैं, जो एक वृत्ताकार दीवार से घिरे हुए हैं।

·         इन मंदिरों का बाह्य भाग देवी-देवताओं की नक्‍काशीदार सुन्‍दर मूर्तियों से विभूषित हैं।

·         इसकी वास्‍तुकला के आधार पर यह मंदिर-समूह राणा कुम्‍भा के काल का माना जाता है।

·         यहाँ एक मूर्ति पर विक्रमी सम्‍वत्  1516 (1459 ई.) का शिलालेख  उत्‍कीर्ण है, जिसमें किसी गोविंदा का उल्‍लेख है।

Mamadeo Temple-

·         This temple is also known as Kumbha Shyam, and it consists of a flat roofed sanctum and a pillared pavilion (mandapa).

·         An inscription of Rana Kumbha giving detailed history of Kumbhalgarh was fixed on this temple.

·         A large number of carved statues of gods-goddesses were found from the  compound of this temple. 

 

 

मामादेव मंदिर-

·         यह मंदिर कुम्‍भ-श्‍याम के नाम से भी जाना जाता है तथा इसमें समतल छत वाला गर्भगृह तथा स्‍तंभों वाला एक मंडप है।

·         कुम्‍भलगढ़ के विस्‍तृत इतिहास का विवरण देते हुए राणा कुम्‍भा का एक शिलालेख इस मंदिर पर लगाया गया है।

·         इस मंदिर के परिसर से देवी-देवताओं की नक्‍काशीदार मूर्तियां बड़ी संख्‍या में प्राप्‍त हुई हैं।

Pitalia Dev Temple-

·         This east facing Jain shrine is situated in the northern side of the fort which was built by a Pitalia Jain Seth in V. S. 1512 (AD 1455) on a raised plinth.

·         This temple consists of a pillared sabha-mandapa and a sanctum having entrances from all the four directions.

·         The jangha is adorned with images of gods and goddesses besides asparas and dancers. 

 

 

पीतलिया देव मंदिर-

·         विक्रम सम्‍वत् 1512 (1455ई.) में एक पीतलिया जैन सेठ द्वारा उठी हुई कुर्सी पर निर्मित यह पूर्वोन्‍मुखी जैन मंदिर किले के उत्‍तरी भाग में है।

·         इस मंदिर में स्‍तंभ वाला सभा-मंडप तथा एक देवमंदिर है, जिसमें चारों दिशाओं से प्रवेश हो सकता है।

·         जंघा को अप्‍सराओं तथा नर्तकों की मूर्तियों के अतिरिक्त देवी-देवताओं के चित्रों से सजाया गया है।

Kumbha Palace-

·         The palace of Rana Kumbha is located near to the Pagda Pol.

·         This palace is a two storey  building.

·         It consists of two rooms, a corridor in the middle and open spaces.

·         The rooms are provided with jharokhas and windows in stones. 

 

 

कुम्‍भा महल-

·         राणा कुम्‍भा का यह महल पगड़ा पोल के निकट स्‍थित है।

·         यह एक दो मंजिला भवन है।

·         इसमें दो कक्ष, बीच में एक बरामदा तथा खुली जगह है। कमरों में पत्‍थर के झरोखे तथा खिड़कियां हैं।

Birth Place of Maharana Pratap-

 

·         The palace known as 'Jhalia ka Malia' or the 'Palace of Queen Jhali' is situated near Pagda Pol.

·         This is believed to be the palace where Maharana Pratap was born.

·         It is constructed of rubble stone with plain walls and flat roof. The traces of painting can still be seen on the wall. 

 

 

महाराणा प्रताप का जन्‍म स्‍थान-

·         'झालिया का मलिया' या 'झाली रानी के महल' के नाम से विख्‍यात हवेली पगड़ा पोल के निकट स्‍थित है।

·         ऐसा माना जाता है कि यही वह महल है, जहां महाराणा प्रताप का जन्‍म हुआ था।

·         यह अनगढ़ पत्‍थरों से निर्मित सादी दीवारों व समतल छत वाला महल है। यहाँ चित्रकारी के अवशेष अभी भी दीवारों पर देखे जा सकते हैं।

Badal Mahal-

·        Badal Mahal is situated at the highest point of the fort.

·      This palace is profusely decorated with wall paintings.

·         It was built by Rana Fateh Singh (AD 1885-1930).

·         The palace is a two storey structure divided into two interconnected distinct portions i.e. the Zanana Mahal and the Mardana Mahal.

·         The Zanana mahal is provided with stone jalis which facilitated the queens to see the court proceedings and other events in privacy.

 

बादल महल-

 

·         बादल महल किले के सबसे ऊंचे स्‍थान पर स्‍थित है।

·         यह महल  भित्‍ति चित्रों से सुसज्‍जित है।

·         इसका निर्माण राजा फतेह सिंह (1885-1930) द्वारा करवाया गया था।

·         यह दो मंजिला भवन है जिसे दो भागों जनाना महल और मर्दाना महल में विभाजित किया गया है।

·         जनाना महल में पत्‍थर की जालियाँ लगी हैं जिनसे रानियां राजदरबार की कार्रवाई और अन्य कार्यक्रम देखा करती थीं।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

राजस्थान सामान्य ज्ञान (331) Rajasthan GK (295) GK (189) सामान्य ज्ञान (139) क्विज (130) Quiz (111) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (94) Rajasthan History (79) समसामयिक घटनाचक्र (75) राजस्थान की योजनाएँ (52) समसामयिकी (44) General Knowledge (43) राजस्थान का इतिहास (42) Science GK (38) विज्ञान क्विज (36) योजनाएँ (35) Science Quiz (34) सामान्य विज्ञान (30) Geography of Rajasthan (25) Question and Answer (20) राजस्थान का भूगोल (19) राजस्थान के मेले (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) Welfare plans of Rajasthan (16) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (15) राजस्थानी साहित्य (15) प्रतिदिन क्विज (14) राजस्थान के लोक नाट्य (14) राजस्थान की कला (13) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (13) राजस्थान के मंदिर (12) राजस्थानी भाषा (11) राजस्थान के तीर्थ स्थल (10) राजस्थान के लोक वाद्य (9) लोक देवता (9) Folk Musical Instruments of Rajasthan (8) Minerals of Rajasthan (8) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (8) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (8) राजस्थान के हस्तशिल्प (8) GK राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (7) राजस्थान की चित्रकला (7) विज्ञान सामान्य ज्ञान (7) Tourism (6) अनुसंधान केन्द्र (6) राजस्थान के कलाकार (6) राजस्थान के खिलाड़ी (6) राजस्थान के लोक नृत्य (6) होली है (6) Fairs of Rajasthan (5) Geography of India (5) राजस्थान की जनजातियां (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (5) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (5) Rivers of Rajasthan (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) forest of Rajasthan (3) अनुप्रति योजना (3) राजस्थान की जनसंख्या (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के संग्रहालय (3) राजस्थान सरकार के उपक्रम (3) राजस्थान साहित्य अकादमी (3) Handicrafts of Rajasthan (2) Metalic Minerals of Rajasthan (2) Ministers of Govt of India (2) Tourist Circuits (2) जिलानुसार झील व बाँध (2) जिलावार तहसीलों की सूची (2) भूकंप (2) राजस्थान की प्रसिद्ध दरगाहें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान की हवेलियां (2) राजस्थान के आभूषण (2) राजस्थान के जिले (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के महोत्सव (2) राजस्थान के रीति-रिवाज (2) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में कृषि (2) राजस्थान में पशुधन (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार (2) Livestock in Rajasthan (1) Major Dialects of Rajasthani (1) folk art (1) अपराजिता (1) क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र (1) तलवारों से गैर (1) बिजौलिया किसान आंदोलन (1) बूंदी का किसान आंदोलन (1) बैराठ की सभ्यता (1) भारत की मृदा (1) भारत की स्थिति (1) भारत के उपग्रह (1) भारत के कमांडर-इन-चीफ (1) भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम (1) भारतीय मूर्तिकला (1) मीणा आन्दोलन (1) मीणाओं के आराध्य भूरिया बाबा (1) मौर्य तथा प्राचीन राजस्थान (1) रणकपुर (1) राजकीय संग्रहालय अजमेर (1) राजकीय संग्रहालय आहाड़-उदयपुर (1) राजपूताना में 1857 की क्रांति (1) राजपूतों की उत्पत्ति के मत (1) राजसमन्द का राजप्रशस्ति शिलालेख (1) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का चौहान वंश (1) राजस्थान का जलियावाला बाग हत्याकांड (1) राजस्थान का नामकरण (1) राजस्थान का प्रथम मसाला पार्क (1) राजस्थान का राज्य पक्षी गोडावण (1) राजस्थान का राठौड़ वंश- (1) राजस्थान का वैभवशाली मूर्तिशिल्प (1) राजस्थान की खारे पानी की झीले (1) राजस्थान की प्रसिद्ध बावड़ियां (1) राजस्थान की मृदा (1) राजस्थान की वन सम्पदा (1) राजस्थान की वेशभूषा (1) राजस्थान की सीमा (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के अधात्विक खनिज (1) राजस्थान के उद्योग (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के प्रमुख व्यक्तियों के उपनाम (1) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (1) राजस्थान के प्रसिद्ध साके एवं जौहर (1) राजस्थान के लोक संत (1) राजस्थान के लोकगीत (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के विविध रंग का रिकार्ड (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के संस्थान (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बजट 2011-12 (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में गौ-वंश (1) राजस्थान में पंचायतीराज (1) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजा अजीतसिंह (1) राज्य की जलवायु (1) राज्य ग्रामीण विकास संस्थान (1) राज्य महिला आयोग (1) राज्य वित्त आयोग (1) राज्य सभा सदस्य (1) रावण का श्राद्ध (1) राष्ट्रीय ऊष्ट्र अनुसंधान केन्द्र (1) राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (1) राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार (1) राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस (1) राष्ट्रीय हस्त शिल्प पुरस्कार (1) लैला मजनूं की मज़ार का मेला (1) विजय सिंह पथिक (1) संसदीय सचिव (1) हेरिटेज वॉक एट फोर्ट कुम्भलगढ़ (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.

Sponsors

If you want to sponsor us for better Educational work. You are always welcome. Your donation will be used for better education of poor school children.



Please Contact us at- rajasthanstudy65@gmail.com

Advertise

Advertise here for the sake of better Education in my School situated in Rajasthan. This website has a very good numbers of audience. This website is viewed by thousands of people specially youngsters everyday. So you can get a nice audience for your product or service. You can contact us for advertisement of your business or any other kind of work which you want to explore to our audience. If you want to come along with us, then contact us. You are always welcome..



Contact us at rajasthanstudy65@gmail.com