4/28/2014 06:35:00 am
0

The camel is an important animal component of the fragile desert eco-system. With its unique bio-physiological characteristics, the camel has become an icon of adaptation to challenging ways of living in arid and semi-arid regions. The proverbial Ship of Desert earned its epithet on account of its indispensability as a mode of transportation and draught power in desert but the utilities are many and are subject to continuous social and economic changes. The camel has played a significant role in civil law and order, defense and battles from the ancient times till date. The world famous Ganga-Risala of erstwhile Bikaner State was accepted as Imperial Service Troup and participated in World War I and II. The camel helped the engineers while constructing the Indira Gandhi Canal in Western part of Rajasthan. Presently, the camel corps constitutes an important wing of Border Security Force of Indian Para-Military Services.
Considering the importance of camel in the socio-economic development of arid and semi-arid zones, the Government of India established a Project Directorate on Camel at Bikaner (India) on 5th July 1984 under aegis of Indian Council of Agricultural Research (ICAR) which was upgraded to National Research Center on Camel (NRCC) on September 20, 1995.
Since the distribution of dromedary camels in India (516828 heads) is confined to the arid and semi-arid areas of North-western India spread out in parts of Rajasthan, Gujarat and Haryana, the NRCC is focusing on basic and applied research on one humped camel (Camelus dromedarius). The center is also focusing issues of double humped camel (Camelus bactrianus) found in the cold desert of Nubra Valley of Laddakh region.

OBJECTIVES-

  • To carryout basic and applied research on camel production and health as influenced by different farming practices.
  • To carryout base line survey of camel genetic resources in India.
  • To carryout research on draughtability.
  • To carryout research on milk production potential in camel.
  • To carryout research for improving reproductive performance.
  • To carryout research on management of camel diseases through surveillance, monitoring and control measures.
  • To carryout research for enhancing productivity by nutritional intervention.
  • To carryout research for exploring camel immune system and its applicability in the diagnosis and therapy of human diseases.
  • Technology validation and its impact on socio-economic status of camel keepers.
  • To act as a repository of information on camel research and development.
  • To collaborate with national and international resources.
  • Development of human resource in the area of camel health and husbandry.
ऊँट रेगिस्तानी पारिस्थितिकी तंत्र का एक महत्वपूर्ण घटक है। अपनी अनूठी जैव-भौतिकीय विशेषताओं के कारण यह शुष्का एवं अर्द्ध शुष्क क्षेत्रों की विषमताओं में जीवनयापन के अनुकूलन का प्रतीक बन गया है। ‘रेगिस्ता‍न का जहाज’ के नाम से प्रसिद्ध इस पशु ने परिवहन एवं भार वाहन के क्षेत्र में अपरिहार्यता की पहचान बनाई है परंतु इसके अतिरिक्त भी ऊँट की बहुत सी उपयोगिताएं हैं जो निरन्तर सामाजिक और आर्थिक परिवर्तनों से प्रभावित होती है। ऊँटों ने प्राचीन काल से वर्तमान समय तक नागरिक कानून एवं व्यवस्था, रक्षा व युद्ध के क्षेत्र में महत्ती भूमिका निभाई है। तत्कालीन बीकानेर के विश्व प्रसिद्ध गंगा रिसाले को शाही सेना में स्थान मिला था तथा इन ऊँटों ने प्रथम एवं द्वितीय विश्व युद्धों में भी भाग लिया था। राजस्थान के पश्चिमी भाग में इन्दिरा गांधी नहर के निर्माण के समय ऊँटों ने इंजीनियरों की बहुत सहायता की थी। आजकल उष्ट्र कोर भारतीय अर्द्ध सैनिक बल के अन्तर्गत सीमा सुरक्षा बल का एक महत्वपूर्ण भाग है।

स्थापना-
 शुष्क और अर्द्ध शुष्की क्षेत्रों के सामाजिक व आर्थिक विकास में ऊँटों के महत्व को देखते हुए भारत सरकार ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (भाकृअप) के अधीन बीकानेर में 5 जुलाई, 1984 को उष्ट्र परियोजना निदेशालय की स्थापना की थी। जिसे 20 सितम्बर, 1995 को क्रमोन्नत कर राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र कर दिया गया। यह केन्द्र बीकानेर से लगभग 10 किमी की दूरी पर जोड़बीड़ क्षेत्र में स्थित है।

भारत में एक कूबड़ीय ऊँटों की संख्या लगभग 5 लाख है जो मुख्यतः भारत के उत्तर-पश्चिमी शुष्क एवं अर्द्ध शुष्क भाग के सीमांत राज्यों राजस्थान, गुजरात एवं हरियाणा में पाए जाते हैं। राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र एक कूबड़ वाले ऊँटों पर आधारभूत एवं व्यावहारिक अनुसंधान के साथ-साथ लद्दाख की नूब्रा घाटी के ठंडे रेगिस्तान में पाए जाने वाले दो कूबड़ीय ऊँटों पर भी अनुसंधान कर रहा है।


प्रमुख उपलब्धियाँ-
प्रारंभ में यह केन्द्र आधारभूत सुविधाओं के विकास तथा उष्ट्र -संरक्षण व इनकी वर्तमान प्रजातियों के परिरक्षण तथा वैज्ञानिक व तकनीकी जानकारी जुटाने में लगा हुआ था। गत 24 वर्षों में अत्याधुनिक प्रयोगशालाओं एवं आधारभूत सुविधाओं के विकसित होने से यह ऊँटों पर अनुसंधान करने वाला विश्वञ का अग्रणी संस्था बन गया है।


> चयनित प्रजनन प्रणाली द्वारा बीकानेरी, जैसलमेरी, कच्छीं व मेवाड़ी नस्ल के 350 उत्कृष्ट ऊँटों के समूह विकास।

> आणविक चिह्रक पद्धति के उपयोग द्वारा एक ही नस्ल में एवं विभिन्न नस्लों के बीच अनुवांशिक विभिन्नताओं की खोज।
  > चयनित प्रजनन प्रणाली द्वारा बीकानेरी, जैसलमेरी, कच्छीं व मेवाड़ी नस्ल के 350 उत्कृष्ट ऊँटों का समूह विकसित किया गया है। 
> केन्द्र के वैज्ञानिकों द्वारा आणविक चिह्रक पद्धति का उपयोग करते हुए एक ही नस्ल में एवं विभिन्न् नस्लों के बीच अनुवांशिक भिन्निताओं का पता लगाया गया है। प्रमुख देशी उष्ट्र नस्लों के गुणों का निर्धारण किया गया है। 
> वीर्य का हिमीकरण सफलतापूर्वक किया गया है तथा कृत्रिम गर्भाधान तकनीकी का मानकीकरण किया जा रहा है। विभिन्नप
> दैहिक अवस्थाओं में जनन हार्मोनों की मात्रा का पता लगाया गया है। 
> केन्द्र में भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक का सफलतापूर्वक प्रयोग किया गया है। केन्द्र द्वारा माहवार कार्यक्रम सम्बन्धित वार्षिक कैलेंडर तैयार किया गया है जिसमें ऊँटों की प्रबन्धन विधियों तथा उचित रख-रखाव द्वारा रोगों से बचाव की जानकारी दी गई है। सर्रा रोग के निदान की पुष्टि हेतु पीसीआर तकनीक मानकीकृत की गई है।
> ऊँटों की विभिन्न नस्लों की कार्यक्षमता के मूल्यांकन का विस्तृात अध्ययन किया जा रहा है। दुग्धकाल, गर्भकाल तथा शारीरिक श्रम की विभिन्न् अवस्था‍ओं में ऊँटों की आहार आवश्यकताओं का आकलन किया गया है। स्थानीय स्रोतों से उपलब्ध चारे एवं आहारों का भी मूल्यांकन किया गया है।
> केन्द्र ऊँट को दुधारू पशु के रूप में स्थापित करने की ओर प्रयासरत है। ऊँटनी के दूध एवं इससे बनने वाले उत्पादों की बढ़ती मांग को देखते हुए केन्द्र परिसर में एक अत्याधुनिक उष्ट्र डेयरी स्थापित की गई है। यह कदम न केवल उष्ट्र पालकों को दुग्ध व्यवसाय की ओर प्रेरित करेगा अपितु ग्रामीण लोगों के समाजार्थिक स्तर को भी ऊँचा उठाने संबंधी दूरगामी परिणाम देने वाला सिद्ध होगा। उष्ट्र दुग्ध पर सुव्यवस्थित अनुसंधान तथा इसकी अलग-अलग नस्लों से दुग्ध उत्पादन पर अनुसंधान कार्य किया जा रहा है।
> उष्ट्र दुग्ध के सामान्य ताप पर जीवन एवं इसकी औषधीय उपयोगिता पर व्याऊप शोध कार्य किया जा रहा है। केन्द्र द्वारा मूल्य संवर्धित उष्ट्र दुग्ध उत्पाद यथा आइसक्रीम, सुगन्धित दूध एवं दही विकसित किए गए हैं। केन्द्र द्वारा अपने परिसर में मिल्क् पार्लर के माध्यम से इन उत्पादों की बिक्री की जाती है। 
>केंद्र द्वारा एक उष्ट्र दुग्ध निर्मित सौन्दर्य क्रीम का निर्माण किया गया है। उष्ट्र हड्डियों को हाथी दांत के स्थान पर तथा बालों को ऊन में मिलाकर नए उत्पाद विकसित हो रहे हैं। केन्द्र द्वारा प्रारंभ दो पहियों वाले ऊँट गाड़े का विद्युतीकरण किया गया है जो कि रात्रि के समय में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं की संभावनाओं को कम करता है।
> ऊँटों की बहुआयामी उपयोगिता के उद्देश्य से ‘उष्ट्र बल द्वारा कृषि प्रसंस्करण एवं विद्युत उत्पादन’ इकाई की स्थापना की गई है। ऊँटों द्वारा उत्पादित जैव ऊर्जा नवीयन एवं पर्यावरणीय दुष्प्रभावों से मुक्त है। ग्रामीण जन जीवन के विभिन्न गृह एवं कृषि कार्यों में इसकी उपलब्धता से इसे उपयोग में लाना निश्चित रूप से आर्थिक आत्म-निर्भरता प्रदान करेगा।

उद्देश्‍य-

  • भिन्न-भिन्न कृषि पद्धतियों से प्रभावित होते हुए उष्ट्र उत्पादन एवं स्वास्थ्य हेतु आधारभूत तथा प्रायोगिक अनुसंधान करना
  • भारत में उष्ट्र आनुवंशिक संसाधनों का आधार-रेखीय सर्वेक्षण करना
  • भारवाहकता पर अनुसंधान करना
  • उष्ट्र- दुग्ध उत्पादन क्षमता पर अनुसंधान करना
  • जनन क्षमता सुधार हेतु अनुसंधान करना
  • सजगता, निगरानी एवं नियत्रंण उपायों द्वारा उष्ट्र रोगों का प्रबंधन
  • उपयुक्त पोषण द्वारा उत्पादकता बढ़ाने हेतु अनुसंधान करना
  • ऊँटों के प्रतिरक्षा तन्त्र पर अनुसंधान करना तथा इसकी मानव रोगों के निदान एवं उपचार हेतु उपयोगिता का पता लगाना
  • प्रौद्योगिकी वैधता और ऊँट पालकों के समाजार्थिक स्तर पर इसके प्रभावों का अध्ययन करना
  • ऊँट अनुसंधान और विकास हेतु सूचना संग्रहक के रूप में कार्य करना
  • राष्ट्रीय और अन्‍तर्राष्ट्रीय संसाधनों के साथ सहयोग करना
  • उष्ट्र पालन एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में मानव संसाधनों का विकास करना

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

राजस्थान सामान्य ज्ञान (331) Rajasthan GK (295) GK (189) सामान्य ज्ञान (139) क्विज (130) Quiz (111) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (94) Rajasthan History (79) समसामयिक घटनाचक्र (75) राजस्थान की योजनाएँ (52) समसामयिकी (44) General Knowledge (43) राजस्थान का इतिहास (42) Science GK (38) विज्ञान क्विज (36) योजनाएँ (35) Science Quiz (34) सामान्य विज्ञान (30) Geography of Rajasthan (25) Question and Answer (20) राजस्थान का भूगोल (19) राजस्थान के मेले (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) Welfare plans of Rajasthan (16) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (15) राजस्थानी साहित्य (15) प्रतिदिन क्विज (14) राजस्थान के लोक नाट्य (14) राजस्थान की कला (13) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (13) राजस्थान के मंदिर (12) राजस्थानी भाषा (11) राजस्थान के तीर्थ स्थल (10) राजस्थान के लोक वाद्य (9) लोक देवता (9) Folk Musical Instruments of Rajasthan (8) Minerals of Rajasthan (8) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (8) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (8) राजस्थान के हस्तशिल्प (8) GK राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (7) राजस्थान की चित्रकला (7) विज्ञान सामान्य ज्ञान (7) Tourism (6) अनुसंधान केन्द्र (6) राजस्थान के कलाकार (6) राजस्थान के खिलाड़ी (6) राजस्थान के लोक नृत्य (6) होली है (6) Fairs of Rajasthan (5) Geography of India (5) राजस्थान की जनजातियां (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (5) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (5) Rivers of Rajasthan (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) forest of Rajasthan (3) अनुप्रति योजना (3) राजस्थान की जनसंख्या (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के संग्रहालय (3) राजस्थान सरकार के उपक्रम (3) राजस्थान साहित्य अकादमी (3) Handicrafts of Rajasthan (2) Metalic Minerals of Rajasthan (2) Ministers of Govt of India (2) Tourist Circuits (2) जिलानुसार झील व बाँध (2) जिलावार तहसीलों की सूची (2) भूकंप (2) राजस्थान की प्रसिद्ध दरगाहें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान की हवेलियां (2) राजस्थान के आभूषण (2) राजस्थान के जिले (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के महोत्सव (2) राजस्थान के रीति-रिवाज (2) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में कृषि (2) राजस्थान में पशुधन (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार (2) Livestock in Rajasthan (1) Major Dialects of Rajasthani (1) folk art (1) अपराजिता (1) क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र (1) तलवारों से गैर (1) बिजौलिया किसान आंदोलन (1) बूंदी का किसान आंदोलन (1) बैराठ की सभ्यता (1) भारत की मृदा (1) भारत की स्थिति (1) भारत के उपग्रह (1) भारत के कमांडर-इन-चीफ (1) भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम (1) भारतीय मूर्तिकला (1) मीणा आन्दोलन (1) मीणाओं के आराध्य भूरिया बाबा (1) मौर्य तथा प्राचीन राजस्थान (1) रणकपुर (1) राजकीय संग्रहालय अजमेर (1) राजकीय संग्रहालय आहाड़-उदयपुर (1) राजपूताना में 1857 की क्रांति (1) राजपूतों की उत्पत्ति के मत (1) राजसमन्द का राजप्रशस्ति शिलालेख (1) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का चौहान वंश (1) राजस्थान का जलियावाला बाग हत्याकांड (1) राजस्थान का नामकरण (1) राजस्थान का प्रथम मसाला पार्क (1) राजस्थान का राज्य पक्षी गोडावण (1) राजस्थान का राठौड़ वंश- (1) राजस्थान का वैभवशाली मूर्तिशिल्प (1) राजस्थान की खारे पानी की झीले (1) राजस्थान की प्रसिद्ध बावड़ियां (1) राजस्थान की मृदा (1) राजस्थान की वन सम्पदा (1) राजस्थान की वेशभूषा (1) राजस्थान की सीमा (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के अधात्विक खनिज (1) राजस्थान के उद्योग (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के प्रमुख व्यक्तियों के उपनाम (1) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (1) राजस्थान के प्रसिद्ध साके एवं जौहर (1) राजस्थान के लोक संत (1) राजस्थान के लोकगीत (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के विविध रंग का रिकार्ड (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के संस्थान (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बजट 2011-12 (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में गौ-वंश (1) राजस्थान में पंचायतीराज (1) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजा अजीतसिंह (1) राज्य की जलवायु (1) राज्य ग्रामीण विकास संस्थान (1) राज्य महिला आयोग (1) राज्य वित्त आयोग (1) राज्य सभा सदस्य (1) रावण का श्राद्ध (1) राष्ट्रीय ऊष्ट्र अनुसंधान केन्द्र (1) राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (1) राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार (1) राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस (1) राष्ट्रीय हस्त शिल्प पुरस्कार (1) लैला मजनूं की मज़ार का मेला (1) विजय सिंह पथिक (1) संसदीय सचिव (1) हेरिटेज वॉक एट फोर्ट कुम्भलगढ़ (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.

Sponsors

If you want to sponsor us for better Educational work. You are always welcome. Your donation will be used for better education of poor school children.



Please Contact us at- rajasthanstudy65@gmail.com

Advertise

Advertise here for the sake of better Education in my School situated in Rajasthan. This website has a very good numbers of audience. This website is viewed by thousands of people specially youngsters everyday. So you can get a nice audience for your product or service. You can contact us for advertisement of your business or any other kind of work which you want to explore to our audience. If you want to come along with us, then contact us. You are always welcome..



Contact us at rajasthanstudy65@gmail.com