4/28/2014 06:11:00 pm
0





Recipient of numerous awards by presenting Rajasthan's famous Terahtali dance for fifty consecutive years, the dancer Mangibai born in Banila village of Chittorgarh district. At the age of only ten years her child marriage was done in Pali district's Padarla village which is famous for Terahtali dance. She learned all the nuances of the art of Terahtali dance from his brother-in-law Gormdas in this village. This dance was ancestral occupation of their family and community, so Mangibai also adopted this dance as the profession. In the beginning she performed dances in the villages around her village, but in 1954, a day came when she performed for the first time in front of thousand audience in a Gaaduliya Louhar's  conference held ar Chittaurgarh in the presence of Jawaharlal Nehru and enchanted all the audience by her charming choreography. After this unforgettable first presentation by establishing records of success, Mangibai reached at a such position that she came to be equated with Terahtali dance. Besides many cities of the country she has gained immense appreciation from showing her skills in countries like Germany, Italy, England, America, Russia, Spain, Canada etc. She got place in the list of India's well-known artists published by THE INDIAN COUNCIL FOR CULTURAL RELATIONS EMPANELMENT - UNIT and in a list of UNESCO's component organisation 'Asia-Pacific database on Intelligible Cultural Heritage'.


पचास वर्षों से लगातार राजस्थान का प्रसिद्ध तेरहताली नृत्य को प्रस्तुत कर कई पुरस्कार प्राप्त करने वाली नृत्यांगना मांगीबाई का जन्म चित्तौड़गढ़ जिले के बनिला गांव में हुआ। मात्र दस वर्ष की आयु में ही इनका बाल विवाह पाली जिले के तेरहताली नृत्य के लिए प्रसिद्ध पादरला गांव में कर दिया गया। यहाँ उन्होंने अपने जेठ गोरमदास से तेरहताली नृत्य की कला की सभी बारीकियां सीखी। यह नृत्य उनके परिवार तथा जाति का पुश्तैनी धंधा है, इसलिए मांगीबाई ने भी इस नृत्य को धंधे के रूप में अपनाया। शुरुआत के दिनों में वो अपने आसपास के गांवों में ही यह नृत्य करती थी, किंतु एक दिन ऐसा आया जब प्रथम बार उन्होंने सन 1954 में पं. जवाहर लाल नेहरू की उपस्थिति में चित्तौड़गढ़ में आयोजित गाड़िया लुहार सम्मेलन में हजारों दर्शकों के समक्ष यह नृत्य प्रस्तुत कर सभी को अपनी नृत्यकला से मोहित कर लिया। इस अविस्मरणीय प्रथम प्रस्तुति के बाद मांगीबाई एक के बाद एक सफलता के आयाम स्थापित करती हुई आज इस स्थिति में पहुंच गई है कि उन्हें तेरहताली नृत्य का पर्याय माना जाने लगा। वो अब तक देश के कई शहरों के अलावा जर्मनी, इटली, इंग्लैंड, अमेरिका, रूस, स्पेन, कनाडा आदि देशों में भी अपने हुनर का जलवा दिखा कर असीम प्रशंसा अर्जित कर चुकी है। INDIAN COUNCIL FOR CULTURAL RELATIONS EMPANELMENT – UNIT द्वारा प्रकाशित भारत के प्रसिद्ध की कलाकारों की सूची में तथा संयुक्त राष्ट्र संघ के घटक यूनेस्को की संस्था 'एशिया पेसिफिक डेटाबेस ऑन इंटेजिबल कल्चरल हेरिटेज' की सूची में भी मांगीबाई को स्थान दिया गया है।
 

 Characteristics of Terhtali - 


  • The Padarli village of Pali district is highly acclaimed for this dance where this dance is performed by women's groups of Kamad community.

  • Men chant the bhajans of folk deity Baba Ramdevji's Leela with playing tanpura during this dance. 

  • The total of thirteen Manjiras (Cymbals) are tied at the hands and feet of dancer which ring during the dance. Hence this dance is called as Terahtali dance.

  • The dancer is being adorned in Rajasthani dress and nine manjiras are being tied linearly on her right leg between the knee cap and toe and a Manjira on each elbow of her hand.

  •  Two Mnjira present in opened position on fingers of both hands of dancer. When the opened Manjiras of both hands are played with the rhythm on tied Manjiras while dancing, the unique association of music and dance establishes an amazing scene.

  • During the dance, the Terahtali dancers perform dance in sitting position with several expressions and body language and physical balance with putting a prayer plate, vase, lamp on the head and holding a sword in the mouth.

  • The Terahtali dancer shows his art feat in the dance by ringing Terahtalis (13 cymbals) with lying on ground and rotating her body in circular movement but there is not a single miss of ringing cymbal.

  • The dancer transfers simple flow of this dance in the pure beauty perception in such a way, that as such as the dance is displayed, it is developed in high order great rhythm, excellent balance and attractive agility skills.  

तेरहताली की विशेषताएँ- 


  • इस नृत्य के लिए पाली जिले का पादरली गाँव अत्यधिक ख्याति प्राप्त है जहाँ की कामड़ जाति की महिलाओं के समूह द्वारा यह नृत्य किया जाता है। 

  • इसमें पुरुष तानपुरे पर लोक देवता बाबा रामदेव जी की लीला से संबंधित भजनों का गायन करते हैं। 

  • इस नृत्य में हाथ और पांव पर कुल तेरह मंजीरे बंधे रहते हैं जो नृत्य के दौरान बजते हैं। इस कारण इस नृत्य को तेरहताली कहते हैं।

  • इसमें नृत्यांगना राजस्थानी लिबास में सजी-धजी रहती है तथा उसके दाएँ पैर पर एड़ी से घुटने के मध्य रेखीयक्रम में नौ मंजीरे बंधे होते हैं तथा एक-एक मंजीरा दोनों हाथों की कुहनियों पर होते हैं।

  • दोनों हाथ की उँगलियों पर दो मंजीरे खुली हुई स्थिति में होते हैं। हाथ के दोनों खुले हुए मंजीरों को जब नाचते हुए बंधे हुए मंजीरों पर लय के साथ बजाया जाता है तो संगीत व नृत्य के अनूठे संगम से अद्भुत समा बंध जाता है। 

  • इस नृत्य के दौरान तेरहताली नृत्यांगनाएं सिर पर पूजा की थाली, कलश, दीपक रखकर तथा मुंह में तलवार दबाकर अनेकानेक भाव भंगिमाओं एवं शारीरिक संतुलन के साथ बैठकर नृत्य करती हैं। 

  • इस नृत्य में नृत्यांगना लेट कर तेरहताली बजाना, चक्कर लगाकर तेरहताली बजाना जैसे करतब इस बेहतरीन ढंग से प्रदर्शित करती है कि मजाल है एक भी मंजीरा बजने से चूक जाए। 

  • इस नृत्य के सरल प्रवाह को नृत्यांगना इस तरह से शुद्ध सौन्दर्य बोध में स्थानांतरित करती है कि यह नृत्य जैसे-जैसे प्रदर्शित होता जाता है, वैसे-वैसे यह उच्च कोटि के श्रेष्ठ ताल-लय, उत्कृष्ट संतुलन तथा आकर्षक चपलता के कौशल के रूप में विकसित होता है।


Awards and honors achieved by the 72-year-old Mangibai -

  • Sangeet Natak Akademi Award by the President and the Prime Minister of  India.

  • Rajasthani folk dance Terhtali award

  • The prestigious Meera award by the Government of Rajasthan.

  • Honored at district level by the District Collector of Pali.

  • Honored by Department of Tourism, Government of India.

  • Included in the list of India's well-known artists published by THE INDIAN COUNCIL FOR CULTURAL RELATIONS EMPANELMENT - UNIT 

  • Included in the list of UNESCO's component organisation 'Asia-Pacific database on Intelligible Cultural Heritage'.

 72 वर्षीय मांगीबाई द्वारा अर्जित पुरस्कार व सम्मान- 

  • भारत के राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री द्वारा संगीत नाटक अकादमी अवार्ड।  

  • राजस्थान सरकार द्वारा प्रतिष्ठित मीरा पुरस्कार।

  • राजस्थानी लोकनृत्य तेरहताली पुरस्कार।  

  • जिला कलक्टर पाली द्वारा जिला स्तरीय सम्मान। 

  • पर्यटन विभाग भारत सरकार द्वारा सम्मान।

  •  INDIAN COUNCIL FOR CULTURAL RELATIONS EMPANELMENT – UNIT की प्रसिद्ध की कलाकारों की सूची में स्थान। 

  • संयुक्त राष्ट्र संघ के घटक यूनेस्को की संस्था एशिया पेसिफिक डेटाबेस ऑन इंटेजिबल कल्चरल हेरिटेज की सूची में स्थान






स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

राजस्थान सामान्य ज्ञान (331) Rajasthan GK (295) GK (189) सामान्य ज्ञान (139) क्विज (130) Quiz (111) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (94) Rajasthan History (79) समसामयिक घटनाचक्र (75) राजस्थान की योजनाएँ (52) समसामयिकी (44) General Knowledge (43) राजस्थान का इतिहास (42) Science GK (38) विज्ञान क्विज (36) योजनाएँ (35) Science Quiz (34) सामान्य विज्ञान (30) Geography of Rajasthan (25) Question and Answer (20) राजस्थान का भूगोल (19) राजस्थान के मेले (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) Welfare plans of Rajasthan (16) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (15) राजस्थानी साहित्य (15) प्रतिदिन क्विज (14) राजस्थान के लोक नाट्य (14) राजस्थान की कला (13) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (13) राजस्थान के मंदिर (12) राजस्थानी भाषा (11) राजस्थान के तीर्थ स्थल (10) राजस्थान के लोक वाद्य (9) लोक देवता (9) Folk Musical Instruments of Rajasthan (8) Minerals of Rajasthan (8) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (8) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (8) राजस्थान के हस्तशिल्प (8) GK राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (7) राजस्थान की चित्रकला (7) विज्ञान सामान्य ज्ञान (7) Tourism (6) अनुसंधान केन्द्र (6) राजस्थान के कलाकार (6) राजस्थान के खिलाड़ी (6) राजस्थान के लोक नृत्य (6) होली है (6) Fairs of Rajasthan (5) Geography of India (5) राजस्थान की जनजातियां (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (5) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (5) Rivers of Rajasthan (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) forest of Rajasthan (3) अनुप्रति योजना (3) राजस्थान की जनसंख्या (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के संग्रहालय (3) राजस्थान सरकार के उपक्रम (3) राजस्थान साहित्य अकादमी (3) Handicrafts of Rajasthan (2) Metalic Minerals of Rajasthan (2) Ministers of Govt of India (2) Tourist Circuits (2) जिलानुसार झील व बाँध (2) जिलावार तहसीलों की सूची (2) भूकंप (2) राजस्थान की प्रसिद्ध दरगाहें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान की हवेलियां (2) राजस्थान के आभूषण (2) राजस्थान के जिले (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के महोत्सव (2) राजस्थान के रीति-रिवाज (2) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में कृषि (2) राजस्थान में पशुधन (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार (2) Livestock in Rajasthan (1) Major Dialects of Rajasthani (1) folk art (1) अपराजिता (1) क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र (1) तलवारों से गैर (1) बिजौलिया किसान आंदोलन (1) बूंदी का किसान आंदोलन (1) बैराठ की सभ्यता (1) भारत की मृदा (1) भारत की स्थिति (1) भारत के उपग्रह (1) भारत के कमांडर-इन-चीफ (1) भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम (1) भारतीय मूर्तिकला (1) मीणा आन्दोलन (1) मीणाओं के आराध्य भूरिया बाबा (1) मौर्य तथा प्राचीन राजस्थान (1) रणकपुर (1) राजकीय संग्रहालय अजमेर (1) राजकीय संग्रहालय आहाड़-उदयपुर (1) राजपूताना में 1857 की क्रांति (1) राजपूतों की उत्पत्ति के मत (1) राजसमन्द का राजप्रशस्ति शिलालेख (1) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का चौहान वंश (1) राजस्थान का जलियावाला बाग हत्याकांड (1) राजस्थान का नामकरण (1) राजस्थान का प्रथम मसाला पार्क (1) राजस्थान का राज्य पक्षी गोडावण (1) राजस्थान का राठौड़ वंश- (1) राजस्थान का वैभवशाली मूर्तिशिल्प (1) राजस्थान की खारे पानी की झीले (1) राजस्थान की प्रसिद्ध बावड़ियां (1) राजस्थान की मृदा (1) राजस्थान की वन सम्पदा (1) राजस्थान की वेशभूषा (1) राजस्थान की सीमा (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के अधात्विक खनिज (1) राजस्थान के उद्योग (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के प्रमुख व्यक्तियों के उपनाम (1) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (1) राजस्थान के प्रसिद्ध साके एवं जौहर (1) राजस्थान के लोक संत (1) राजस्थान के लोकगीत (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के विविध रंग का रिकार्ड (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के संस्थान (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बजट 2011-12 (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में गौ-वंश (1) राजस्थान में पंचायतीराज (1) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजा अजीतसिंह (1) राज्य की जलवायु (1) राज्य ग्रामीण विकास संस्थान (1) राज्य महिला आयोग (1) राज्य वित्त आयोग (1) राज्य सभा सदस्य (1) रावण का श्राद्ध (1) राष्ट्रीय ऊष्ट्र अनुसंधान केन्द्र (1) राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (1) राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार (1) राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस (1) राष्ट्रीय हस्त शिल्प पुरस्कार (1) लैला मजनूं की मज़ार का मेला (1) विजय सिंह पथिक (1) संसदीय सचिव (1) हेरिटेज वॉक एट फोर्ट कुम्भलगढ़ (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.

Sponsors

If you want to sponsor us for better Educational work. You are always welcome. Your donation will be used for better education of poor school children.



Please Contact us at- rajasthanstudy65@gmail.com

Advertise

Advertise here for the sake of better Education in my School situated in Rajasthan. This website has a very good numbers of audience. This website is viewed by thousands of people specially youngsters everyday. So you can get a nice audience for your product or service. You can contact us for advertisement of your business or any other kind of work which you want to explore to our audience. If you want to come along with us, then contact us. You are always welcome..



Contact us at rajasthanstudy65@gmail.com