Monday, 1 April 2013

राजस्थान सामान्य ज्ञान-
***राजस्थान के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें***


* पाली नगर बांडी नदी के किनारे स्थित है। 

* माही नदी को " वागड़ की गंगा" कहते हैं। यह डूंगरपुर तथा बाँसवाड़ा के मध्य सीमा बनाती है।

* सोम नदी उदयपुर तथा डूंगरपुर के बीच सीमा बनाती है। 

* चर्मण्वती और कामधेनू चंबल नदी को कहते हैं। 

* रूपारेल नदी को वराह नदी भी कहा जाता है। 

* बनास नदी को वन की आशा भी कहते हैं। 

* हनुमानगढ़ जिले में घग्घर नदी के पाट को नाली कहते हैं। 

* घग्घर नदी को मृत नदी के नाम से भी जाना जाता है।

* चंबल नदी द्वारा निर्मित 100 किमी लंबा गार्ज (महाखड्ड) भैंसरोडगढ़ (चित्तौड़गढ़) से कोटा तक है। 

* डूंगरपुर जिले में बेणेश्वर त्रिवेणी संगम स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। यहाँ माही, सोम तथा जाखम नदियों का संगम होता है।

* चंबल नदी द्वारा बनाया गया चूलिया जल प्रपात भैंसरोड़गढ़ (चित्तौड़गढ़) के निकट है।

* चंबल नदी अपेक्षाकृत कम वर्षा वाले भागों से अधिक वर्षा वाले भागों की ओर प्रवाहित होती है इसलिए इसमें वर्ष भर जल विद्यमान रहता है।

* चंबल नदी की अपवाह प्रणाली वृक्षाकार या पादपाकार है। 

* राज्य में सबसे अधिक सतही जल चंबल नदी में उपलब्ध है। इस मामले में दूसरे स्थान पर बनास तथा तीसरे पर माही नदी है। 

* राजस्थान की अपने पड़ोसी राज्यों के साथ सबसे बड़ी नदी सीमा मध्यप्रदेश के साथ है जो चंबल द्वारा बनाई गई है। यह 252 किमी लंबी है। 

* पार्वती नदी दो बार राजस्थान व मध्यप्रदेश के बीच सीमा बनाती है। 

* गंभीर नदी राजस्थान और उत्तर प्रदेश के मध्य सीमा बनाती है। 

* सवाई माधोपुर जिले में रामेश्वर पर चंबल बनास तथा सीप नदी का त्रिवेणी संगम है।

* राज्य में प्रवाहित होने वाली सबसे लंबी नदी बनास है। इसकी लंबाई 512 किमी है।

* राज्य में सबसे बड़ा जलग्रहण क्षेत्र बनास नदी का है।

3 comments:

Gopal Vundavalli said...

Excellent Work Mr. Joshi


http://rhinocadjewelrydesignservices.blogspot.in/

bheem puri said...

बनास का बहाव 480 किमी ह मेरी बुक का हीसाब स plz cheak this

bheem puri said...

बनास का बहाव 480 किमी ह मेरी बुक का हीसाब स plz cheak this

सुझाव एवं प्रतिक्रिया


आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

Followers

Search This Blog

Loading...

विनम्र अनुरोध

यह देखा गया है कि कतिपय वेबसाइट ने इस ब्लॉग की सामग्री को हूबहू अपने यहाँ प्रकाशित कर दी है जो हर दृष्टि से अनुचित है। अतः अनुरोध है कि इस ब्लॉग में प्रकाशित सामग्री को हमारी अनुमति के बिना कोई भी कहीं पर प्रकाशित नहीं करें। ऐसा करना न केवल सर्वथा अनुचित है अपितु हमारे द्वारा पूर्ण परिश्रम के साथ किए जा रहे प्रयास के लिए भी नकारात्मक उत्प्रेरणा का कारण हैं। ये ब्लॉग हिन्दी मेँ राजस्थान की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। आप सभी के सहयोग से आगे बढ़ रहा है। आपकी सकारात्मक उत्प्रेरणा और प्रतिक्रियाओं के साथ आगे का सफ़र निर्बाध तय करेगा, इसी उम्मीद के साथ... धन्यवाद, जय श्रीकृष्ण।

राजस्थान के विविध रंग on facebook

स्वागतं आपका......

राजस्थान के मूलभूत ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।


"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

Worth Of This Site

राजस्थान समाचार

Loading...

PDF24 Article To PDF

Send articles as PDF to
Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Follow by Email

Sign In To This Site

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibilty for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post should be deleted.