4/01/2013 09:08:00 am
3

* पाली नगर बांडी नदी के किनारे स्थित है। 

* माही नदी को " वागड़ की गंगा" कहते हैं। यह डूंगरपुर तथा बाँसवाड़ा के मध्य सीमा बनाती है।

* सोम नदी उदयपुर तथा डूंगरपुर के बीच सीमा बनाती है। 

* चर्मण्वती और कामधेनू चंबल नदी को कहते हैं। 

* रूपारेल नदी को वराह नदी भी कहा जाता है। 

* बनास नदी को वन की आशा भी कहते हैं। 

* हनुमानगढ़ जिले में घग्घर नदी के पाट को नाली कहते हैं। 

* घग्घर नदी को मृत नदी के नाम से भी जाना जाता है।

* चंबल नदी द्वारा निर्मित 100 किमी लंबा गार्ज (महाखड्ड) भैंसरोडगढ़ (चित्तौड़गढ़) से कोटा तक है। 

* डूंगरपुर जिले में बेणेश्वर त्रिवेणी संगम स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। यहाँ माही, सोम तथा जाखम नदियों का संगम होता है।

* चंबल नदी द्वारा बनाया गया चूलिया जल प्रपात भैंसरोड़गढ़ (चित्तौड़गढ़) के निकट है।

* चंबल नदी अपेक्षाकृत कम वर्षा वाले भागों से अधिक वर्षा वाले भागों की ओर प्रवाहित होती है इसलिए इसमें वर्ष भर जल विद्यमान रहता है।

* चंबल नदी की अपवाह प्रणाली वृक्षाकार या पादपाकार है। 

* राज्य में सबसे अधिक सतही जल चंबल नदी में उपलब्ध है। इस मामले में दूसरे स्थान पर बनास तथा तीसरे पर माही नदी है। 

* राजस्थान की अपने पड़ोसी राज्यों के साथ सबसे बड़ी नदी सीमा मध्यप्रदेश के साथ है जो चंबल द्वारा बनाई गई है। यह 252 किमी लंबी है। 

* पार्वती नदी दो बार राजस्थान व मध्यप्रदेश के बीच सीमा बनाती है। 

* गंभीर नदी राजस्थान और उत्तर प्रदेश के मध्य सीमा बनाती है। 

* सवाई माधोपुर जिले में रामेश्वर पर चंबल बनास तथा सीप नदी का त्रिवेणी संगम है।

* राज्य में प्रवाहित होने वाली सबसे लंबी नदी बनास है। इसकी लंबाई 512 किमी है।

* राज्य में सबसे बड़ा जलग्रहण क्षेत्र बनास नदी का है।

3 टिप्पणियाँ:

  1. Excellent Work Mr. Joshi


    http://rhinocadjewelrydesignservices.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. बनास का बहाव 480 किमी ह मेरी बुक का हीसाब स plz cheak this

    ReplyDelete
  3. बनास का बहाव 480 किमी ह मेरी बुक का हीसाब स plz cheak this

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.